india

अब सेना संभालेगी तबलीगी जमातियों वाले क्वारंटीन सेंटर की जिम्मेदारी

देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। साथ ही कोरोना संक्रमित मरीजों की जांच कर रही डॉक्टर्स की टीम पर भी लगातार हमले हो रहे हैं। इसी कड़ी में दिल्ली के जिस क्वारंटीन में जमातियों को भेजा गया है इस क्वारंटीन की निगरानी अब सेना के हवाले कर दी गई है। दिल्ली के नरेला में बने क्वारंटीन सेंटर को अब सेना संभालेगी। इस सेंटर में तब्लीगी जमात के 932 सदस्य भर्ती हैं, जिनमे से 367 कोरोना पॉजिटिव हैं।

बता दें कि दिल्ली के नरेला का क्वारंटीन सेंटर देश का सबसे बड़ा है जो कोविड-19 के संदिग्धों की देखभाल करता है। यह सेंटर मार्च में विदेश से आए 250 विदेशी नागरिकों को भर्ती करने के लिए बनाया गया था। बाद में निजामुद्दीन मरकज से आए एक हजार लोगों को यहां भर्ती कराया गया है।

जानकारी के मुताबिक, नरेला क्वारंटीन को सेना ने अपने कब्जे में ले लिया है, हालांकि नरेला क्वारंटीन सेंटर ने सेना के होने बाद भी सिविल का भूमिका खत्म नहीं की गई है। यहां सिविल स्टाफ रात में मरीजों की देखभाल करेगा। वहीं, सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक क्वारंटीन सेंटर सेना की निगरानी में रहेगा। अभी तक दिल्ली के डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मी यहां का काम संभाल रहे थे। वहीं, अब सेना और सरकारी स्टाफ मिलकर इस सेंटर को काफी अच्छे से चला रहे हैं।

आपको बता दें कि इस क्वारंटीन सेंटर में वर्तमान में फिलहाल 40 कर्मचारी कार्यरत हैं जिनमें 6 मेडिकल अफसर और 18 पैरामेडिकल स्टाफ शामिल हैं। वहीं, 1200 से ज्यादा लोग भर्ती हैं, जिसमें ज्यादातर तबलीगी जमात से जुड़े लोग हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *