india

अयोध्या: राम मंदिर भूमिपूजन के बाद मुस्लिम बोर्ड का बड़ा बयान, “मूर्ति रखने से नहीं बदली…”

राम नगरी अयोध्या में 5 अगस्त को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भगवान राम के मंदिर का शिलान्यास किया। इसी को लेकर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का बड़ा बयान सामने आया है। बोर्ड ने कहा है कि बाबरी मस्जिद कल भी थी, आज भी है और कल भी रहेगी। हागिया सोफिया इसका बेहतरीन उदाहरण है। मस्जिद में मूर्तियां रख देने, पूजा-पाठ शुरू कर देने या एक लंबे अर्से तक नमाज पर पाबंदी लगा देने से मस्जिद की हैसियत खत्म नहीं हो जाती।

ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड की ओर से जारी प्रेस रिलीज में कहा गया है कि हमारा हमेशा से मानना रहा है कि बाबरी मस्जिद किसी भी मंदिर या किसी हिंदू इबादतगाह को तोड़ कर नहीं बनाई गई। बोर्ड ने कहा कि हालात चाहे जितने खराब हों हमें हौसला नहीं हारना चाहिए, मुखालिफ हालात में जीने का मिजाज बनाना चाहिए।

मुसलमानों से अपील की गई है कि वे सुप्रीम कोर्ट के फैसले और मस्जिद की जमीन पर मंदिर के तामीर होने से हरगिज निराश न हों, हमें यह भी याद रखना चाहिए कि खाना-ए-काबा एक लंबे अर्से तक शिर्क और बिदअत परस्ती का मरकज रहा है। हमारी जिम्मेदारी है कि ऐसे नाजुक मौके पर अपनी गलतियों से तौबा करें, इखलाक और किरदार को सवारें, घर और समाज को दीनदार बनाए और पूरे हौसले के साथ मुखालिफ हालात में आगे बढ़ने का फैसला करें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *