india

अयोध्य: राम मंदिर भूमिपूजन के बाद SP सांसद का बयान, “मुसलमानों के साथ हुई नाइंसाफी”

राम नगरी अयोध्या में राम मंदिर भूमिपूजन के बाद से ही लगातार मुस्लिम नेताओं की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। इसी कड़ी में एक और नाम जुड़ गया है। जी हां, ये नाम है यूपी के संभल से सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क का। शफीकुर्रहमान ने एक विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद थी, है और आगे भी रहेगी। जहां एक बार मस्जिद बन जाती है वह जमीन और वह हिस्सा हमेशा मस्जिद का ही रहता है और मस्जिद का ही रहेगा। यह इस्लाम का कानून है।

शफीकुर्रहमान ने कहा कि मुसलमानों को डरने की कोई जरूरत नहीं है। मुसलमान यह समझे कि हम किसी की रहमों करम पर जिंदा नहीं बल्कि ऊपर वाले के रहमों करम पर जिंदा है। यह हमारे साथ नाइंसाफी हुई है लेकिन फिर भी मुसलमानों ने बहुत सब्र के साथ काम किया है। इसलिए हमें विश्वास है कि यह मस्जिद है और मस्जिद ही रहेगी। इसको कोई मिटा नहीं सकता।

सपा सांसद ने संघ प्रमुख मोहन भागवत के अयोध्या में भूमि पूजन कार्यक्रम में भगवा पहनने पर कहा कि उन्होंने आज तक कभी भगवा नहीं पहना था लेकिन कार्यक्रम के दौरान वह भगवा पहने हुए दिखे और अब उन्होंने बता दिया है कि वह भगवा में हो गए हैं। मंदिर की जो नींव रखी गई है उससे मुसलमानों को डरने की कोई जरूरत नहीं है। मुसलमान डरे ना और यह समझे कि हम किसी की रहमों करम पर जिंदा नहीं बल्कि ऊपर वाले के रहमों करम पर जिंदा है। इस देश के लिए मुसलमानों ने जितनी बड़ी कुर्बानी दी है उसको दुनिया भुला नहीं सकती।

इंडिया इमाम एसोसिएशन के अध्यक्ष मौलाना मोहम्मद साजिद रशीदी का विवादित बयान सामने आया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि मस्जिद बनाने के लिए मंदिर को तोड़ा जा सकता है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अयोध्या में राम मंदिर बनाने का रास्ता साफ हुआ था। सालों तक चली रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद की लंबी कानूनी लड़ाई में रामलला के पक्ष में फैसला आया था, जिसके बाद पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर की नींव रखी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *