Home health इन तरीकों से पता लगाएं कि आप CORONA संक्रमित हैं या नहीं?

इन तरीकों से पता लगाएं कि आप CORONA संक्रमित हैं या नहीं?

चीन के वूहान शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस पूरी दुनिया में अपने पैर पसार चुका है। विश्व का सबसे पावरफुल कहा जाने वाला देश अमेरिका भी इससे बुरी तरह प्रभावित है। भारत में भी कोरोना के संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। देशवासियों में इस वायरस का इतना खौफ हो गया है कि खांसी और बुखार होने पर लोग खुद को संक्रमित मान रहे हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि बदलते मौसम के कारण भी आपको खांसी और बुखार हो सकता है इसलिए अगर आपको बुखार आए तो आप बिल्कुल भी ना डरे। ऐसे वक्त के लिए सरकार ने कुछ तरीके बताए हैं जिससे आप अपने डर को दूर कर सकते हैं।
  1. अगर आपको हल्का बुखार और खांसी है तो आप सबसे पहले सरकार द्वारा जारी किए गए नंबर पर कॉल करके अपनी परेशनी बताएं। इसके लिए सरकार ने 1075 और 011 23978046 दो हेल्प लाइन नंबर जारी किए हैं। चलिए आपको बता दें कि 1075 पर कॉल करके क्या करना है। जब आप इस हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल करेंगे तो सामने वाला व्यक्ति आपसे आपके लक्षणों के बारे में पुछेगा। आपकी पर्सलन डिटेल जैसे कि आप किस राज्य से हैं किस जोन से हैं। आपके लक्षण के बारे में जानने के बाद वो व्यक्ति आपको आपके जिले के नोडल अधिकारी का नंबर देगा, जिस पर आपको संपर्क करना होगा। संपर्क करने के बाद आपको बताया जाएगा कि आपको किस लैब में जाकर अपना टेस्ट कराना है।
  2. अगर आपको कोरोना के लक्षण दिख रहे हैं तो आप सरकारी के साथ-साथ प्राइवेट लैब में भी जाकर अपना टेस्ट करा सकते हैं। अगर आप किसी प्राइवेट लैब में अपना टेस्ट करना चाहते हैं तो आपके पास डॉक्टर की टेस्ट स्लिप होनी चाहिए। जिसे दिखाकर आप टेस्ट करा सकते हैं। अगर आप किसी प्राइवेट लैब में टेस्ट कराते हैं तो आपको 4500 रुपए देने होंगे।
  3. तीसरे तरीके की बात करें तो ये तरीका है आरोग्य सेतु ऐप का। जहां पर अपने हेल्थ को लेकर आपकी सारी शंका दूर हो जाएगी। ये तरीका सबसे आसान है। इस ऐप में आपसे कुछ आसान सवाल पूछे जाएंगे जिसे बताकर आप जान सकते हैं कि आप कोरोना संक्रमित हैं या नहीं।

ICMR ने टेस्ट को लेकर किए ये बदलाव

देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मरीजों के कारण आईसीएमआर ने टेस्ट को लेकर सोमवार को कुछ बड़े बदलाव किए हैं।

•  जिस भी व्यक्ति को 38◦C से अधिक बुखार होगा उसका टेस्ट किया जाएगा।

•  जिसे खांसी के साथ एक्यूट रेस्पिरेटरी इन्फेक्शन होगा, उसका टेस्ट किया जाएगा।

•  कोरोना वॉरियर्स या ऐसा कहें कि फ्रंटलाइट वर्कर जिनमें कोरोना के लक्षण हो।

•  सभी प्रवासी मजदूर जो दूसरे राज्यों से वापिस आए हैं उनका 7 दिन के अंदर टेस्ट होगा।

•  अस्पताल में भर्ती सभी मरीज जिनमें थोड़ा भी आईएलआई लक्षण दिखाई दे, उसका टेस्ट होगा।

आईसीएमआर ने रणनीति बनाते हुए अस्पतालों को कहा कि इमरजेंसी और डिलीवरी वाले मरीजों को सबसे पहले प्राथमिकता दें। अगर उनमें जरा सा भी लक्षण दिखे तो उनके सैंपल की जांच की जाए और उनके इलाज में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

UNLOCK 4.0: आज से इन कामों पर मिलेगी रियायतें, इन पर जारी रहेगी पाबंदी

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच देश तेजी से अनलॉक मोड में जा रहा है. फिलहाल अनलॉक- 4 चल रहा है. जिसके तहत तमाम...

महाराष्ट्र: तीन मंजिला इमारत ढहने से बड़ा हादसा, 10 लोगों की मौत, कई लोगों के फंसे होने की आशंका

महाराष्ट्र के भिवंडी में सोमवार की सुबह एक दर्दनाक हादसा हो गया। सोमवार सुबह तीन मंजिला इमारत ढहने से 10 लोगों की...

आईपीएल 2020: रोहित शर्मा के चौके से हुई IPL के 13वें सीजन की शुरुआत

आईपीएल के 13वें सीजन का आगाज यूएई में हो चुका है। इस सीजन का पहला मैच चार बार की चैंपियन मुंबई इंडियंस और...

जासूस राजीव शर्मा ने किए कई चौंकाने वाले खुलासे, एक सूचना देने पर मिलते थे इतने डॉलर

चीनी खुफिया एजेंसी के लिए जासूसी करने के आरोप में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दिल्ली के पीतमपुरा इलाके से फ्रीलांस पत्रकार राजीव...

Recent Comments