News

केंद्रीय मंत्री का बड़ा बयान, “भारत को PAK में घुसकर दाऊद का कर देना चाहिए खात्मा”

आतंकवाद को पनाह देने वाले देश पाकिस्तान ने भारत के दुश्मन मोस्ट वॉटेंड दाऊद इब्राहिम के कराची में होने की बात कबूली थी। साथ ही, दाऊद का नाम आतंकियों की सूची में भी शामिल कर दिया था। वहीं, अब केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि पाकिस्तान ने हाल ही में स्वीकार किया है कि भारत का गुनाहगार दाऊद इब्राहिम पाकिस्तान में ही मौजूद है। उन्होंने कहा कि यदि पाकिस्तान सरकार दाऊद को भारत को नहीं सौंपता है तो फिर भारत को पाकिस्तान में घुसकर दाऊद इब्राहिम का उसी तरह से खात्मा कर देना चाहिए जिस तरह से अमेरिका के कमांडों ने दो मई 2011 को पाकिस्तान के एबटाबाद में पनाह लिए हुए दुनिया के खूंखार आतंकवादी ओसामा बिन लादेन का खात्मा किया था।

केन्द्रीय मंत्री ने आगे कहा कि भारत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आज दुनिया की सबसे बड़ी ताकत बन गया है। पाकिस्तान को भारत को हल्के में लेने की जुर्रत नहीं दिखानी चाहिए। अठावले जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अत्यंत विश्वासपात्र माने जाते हैं और जिन्हें बीजेपी महाराष्ट्र से हाल ही में अपने बूते दोबारा से राज्यसभा में लाई है ने कहा कि अयोध्या में भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर उसी स्थान पर बनेगा जहां हिंदुओं की आस्था के मुताबिक भगवान श्रीराम ने जन्म लिया था।

अठावले ने कहा कि मोदी सरकार ने एक साल पहले जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाकर ऐतिहासिक गलती को सुधारा था। उन्होंने कहा कि इसी तरह तीन तलाक की समस्या से मुस्लिम महिलाओं को मोदी सरकार ने निजात दिलाई है। आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार तेजी के साथ आगे बढ़ रही है। रामदास अठावले जो बौद्ध धर्म से ताल्लुक रखते हैं और भगवान बुद्ध की शिक्षाओं और डा. भीमराव अंबेडकर के सच्चे अनुयायी माने जाते हैं ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संविधान निमार्ता  डॉ भीमराव अंबेडकर का बहुत ही सम्मान और आदर करते हैं।

सभी अल्पसंख्यक समुदायों बौद्ध, जैन, पारसी, ईसाई, मुस्लिम सभी के हितों का उनकी सरकार समुचित ध्यान रख रही है और उनके कल्याण के लिए योजनाएं चला रही है। उन्होंने कहा कि उनका अपना मंत्रालय का सालाना बजट 10-11 हजार करोड़ का है। इसमें से साढ़े आठ हजार करोड़ की धनराशि अनुसूचित जातियों के कल्याण पर खर्च की जाती है। कोरोना काल में भी उनके मंत्रालय की योजनाएं और कामकाज बदस्तूर जारी रहा।

अठावले ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा और स्नेह को देखते हुए वह कांग्रेस से अलग होकर भाजपा के साथ आए थे। कांग्रेस ने उन्हें केंद्र में मंत्री नहीं बनाया था। वह लोकसभा में चुनकर आए थे। सोनिया गांधी ने यह कहकर उन्हें मंत्री बनाने से मना कर दिया था कि उनका लोकसभा में एक ही सदस्य है। जबकि मुस्लिम लीग का भी एक सदस्य था और उसे मंत्री बना दिया गया था। उन्होंने कहा कि पिछले लोकसभा चुनाव में हम भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़े और महाराष्ट्र में भाजपा को ऐतिहासिक रूप से सफलता मिली। उन्होंने कहा कि भारत का दलित समाज प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व और नीतियों से सहमत और संतुष्ट है। आज श्री मोदी के नेतृत्व में भारत अपनी परम वैभव को प्राप्त कर चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *