india

कोरोना वायरस: जगह-जगह थूककर कोरोना फैलाने की अफवाह के कारण आपस में भिड़े हिंदू-मुस्लिम, एक की मौत

कोरोना वायरस  के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए देश में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन लागू है। तो वहीं, अफवाहों का बाजार भी पूरी तरह गर्म है। इसी कड़ी में झारखंड के गुमला जिले के कुदरा और सिसई बस्ती गांव में मुस्लिमों द्वारा थूक फेंक कर कोरोनावायरस फैलाने की अफवाह के बाद यह मामला हिंदू-मुस्लिम दंगे में बदल गया। इस हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई और पांच लोग घायल हैं। इस वक्त गांव में माहौल तनावपूर्ण है। एक ग्रामीण ने बताया कि कुदरा गांव में एक लड़का (मुस्लिम) और लड़की (हिंदू) को पकड़ा गया। दोनों एक दूसरे से प्यार करते हैं और छुप-छुप कर मिलते थे। लड़की उसी गांव की थी और लड़का पास के गांव सिसई बस्ती का था। लड़के के साथ दो और साथी थे, जो भाग गए। कुदरा के ग्रामीणों के बीच इस दौरान हल्ला मचा कि मुस्लिम समुदाय के लोग कोरोना संक्रमण फैलाने गांव आए हैं और वो जगह-जगह थूक रहे हैं। इसके बाद गांव वालों ने पकड़े गए युवक की जमकर पिटाई कर दी गई।

वहीं, सिसई बस्ती में जब सूचना पहुंची तो वहां के लोग भी भड़क गए और बड़ी संख्या में ग्रामीण सड़क पर जमा हो गए। इस दौरान उसी गांव का एक आदिवासी घर से मामले को जानने निकला लेकिन मुस्लिमों के समुदाय ने उसकी जमकर पिटाई कर दी। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची गुमला जिला परिषद अध्यक्ष किरण बारा ने बताया कि घायल बोलवा को वह अपनी गाड़ी से सिसई रेफरल अस्पताल लेकर गईं। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक के परिवार में पत्नी के अलावा तीन बेटी और एक बेटा है। वह पेशे से किसान था।

जानकारी के मुताबिक, झगड़े में दो लोग घायल हो गए हैं, एक की मौत हो गई है। दोनों घायलों को रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) रेफर किया गया है। फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है। मामले को लेकर फिलहाल किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। गुमला के जिलाधिकारी शशिरंजन ने बताया कि पूरे जिले में दो दिन के लिए पूरी तरह ‘लॉकडाउन’ किया गया है। इस दौरान दूध और दवाई की दुकान मात्र खुली रहेंगी। उन्होंने बताया कि शक के आधार पर दस लोगों को पुलिस ने पकड़ा है, उनसे पूछताछ चल रही है साथ ही गांव वालों की काउंसिंलिंग भी की जा रही है। जब तक मामला शांत नहीं होता तब तक के लिए अतिरिक्त पुलिस बल यहां निगरानी के लिए बुलाई गई है।

कुदरा पंचायत की मुखिया शकुंतला देवी के पति प्रकाश उरांव ने बताया कि देर रात अफवाह फैली कि बाहर से आए लोग गांव के तालाबों में जहर डाल रहे हैं। कुछ मुसलमान लोग जगह-जगह थूक रहे हैं जिससे कोरोना फैल जाएगा। वहीं, सिसई की मुखिया शकुंतला उरांव के पति मंगरा उरांव ने बताया कि पहले कुदरा गांव में हल्ला उड़ा कि मुसलमान लोग कोरोना फैलाने के लिए थूक फेंक रहा है। वहीं सिसई बस्ती में हल्ला उड़ा कि हिन्दू लोग मुसलमानों को मारने के लिए आ रहे हैं। वहीं, कुछ आदिवासी लोग मामले को समझने के लिए घर से बाहर निकले। इसी हिंदू-मुस्लिम के दंगे के बीच में आने से एक आदिवासी मारा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *