News

जानिए, आखिर क्यूं विराट कोहली ने 2016 के IPL में सरफराज को दिखाया था बाहर का रास्ता

मुंबई के युवा बल्लेबाज सरफराज खान ने रणजी ट्रॉफी में तिहरा शतक जड़ा था। उत्तर प्रदेश के खिलाफ मैच में सरफराज के बल्ले से 301 रनों की नाबाद पारी निकली थी। 391 गेंदों में 30 चौके और 8 छक्कों की मदद से सरफराज ने यह पारी खेली थी। 22 वर्षीय इस बल्लेबाज को कुछ समय पर तक भविष्य के रूप में देखा जाता था लेकिन पिछले कुछ सालों से वह खास प्रदर्शन नहीं दिखा पा रहे थे।

सरफराज खान से पहले सुनील गावस्कर, रोहित शर्मा, वसीम जाफर और अमोल मुजमदार समेत कई बड़े नामों ने मुंबई के लिए खेलते हुए तिसरा शतक बनाया था। इस श्रेणी में शामिल होने पर सरफराज ने खुशी जताई है। ईएसपीएन क्रिकइंफो से बात करते हुए उन्होंने कहा कि ‘सचिन तेंदुलकर, सुनील गावस्कर, वसीम जाफर और रोहित शर्म जैसे महान खिलाड़ियों के साथ मुंबई के ट्रिपल-सेंचुरी क्लब में शामिल होने पर गर्व महसूस होता है।’

सरफराज खान आईपीएल 2016 में आरसीबी का हिस्सा थे। उनका फॉर्म अच्छा होने के बाद भी फिटनेस की वजह से प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया। इस बारे में बात करते हुए सरफराज ने कहा, ‘मेरी फिटनेस के कारण मुझे 2016 में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर में हटा दिया गया था। विराट कोहली ने मुझे सीधे कहा, जबकि मेरे स्किल पर कोई संदेह नहीं था, मेरी फिटनेस मुझे अगले स्तर तक पहुंचने नहीं दे रही थी। वह जहां था, वह बारे में मेरे साथ बहुत ईमानदार थे।’

सरफराज खान ने बताया कि पहले उनके साथी खिलाड़ी उन्हें पांडा कहा करते थे। फिटनेस हासिल करने के बाद वही साथी खिलाड़ी सरफराज को माचो कहते हैं। कई लोगों को लगता है कि यह उनका निकनेम भी है। उन्होंने कहा, ‘मुझे न केवल अपनी बेहतर फिटनेस के बारे में अच्छा महसूस हुआ, बल्कि इसलिए कि इससे मुझे रन बनाने और लीड हासिल करने में मदद मिली। एक समय पर, मेरे सभी टीम-साथी मुझे ‘पांडा’ कहते थे, क्योंकि मैं बहुत खाता था। अब, वे मुझे माचो कहने लगे हैं। दरअसल, अब बहुत कम लोग इसे मेरा निकनेम जानते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *