india

जामिया गोलीकांड पर बोले पूर्व DGP, ‘मैं होता तो हमलावर को गोली मार देता’

सीएए और एनआरसी के विरोध में दिल्ली की जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से राजघाट तक मार्च निकाला जा रहा था। जहां एक शख्स सरेआम पुलिस की मौजूदगी में गोली चला रहा था। गोली जामिया यूनिवर्सिटी के छात्र शाबाद के हाथ में लगी है। शाबाद को दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। ऐसे में एक यूपी के पूर्व पुलिस महानिदेशक विक्रम सिंह ने अपनी प्रतिक्रिया दी है।

उत्तर प्रदेश पुलिस के पूर्व महानिदेशक विक्रम सिंह ने एक निजी चैनल से बात करते हुए कहा कि वे इस घटना से निराश हैं। उनका कहना है कि उन्हें दिल्ली पुलिस से काफी उम्मीद थी। लड़के ने 20 सेकेंड का मौका दिया, हथियार चमकाया, नारेबाजी की, गोली चलाई, ऐसे में इसे ओवर पावर करके काबू किया जा सकता है। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पुलिस कमिश्नर से कहना चाहूंगा। जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ करें। मूक दर्शक बने रहे तो इसकी तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति होगी।

पूर्व महानिदेशक विक्रम सिंह ने कहा कि इस लड़के की तैयारी देखें। हथियार लेकर आया। पुलिस की तैयारी में कमी थी। उसमें परिवर्तन करने की ज़रूरत है। उसने अवैध हथियार लहराया। जो शब्द बोल रहा है, उनकी मनोचिकित्सक जांच होनी चाहिए। उसके दिमाग में इतना जहर कहां से आया। किसने उसे ऐसा करने के लिए उकसाया।

बता दें कि विक्रम सिंह ने कहा कि अगर वो ऐसे हालात में होते तो टूट पड़ते, उसे काबू करते। अगर नहीं मानता तो घुटने के नीचे गोली मारते। उसे निष्क्रिय करते। अगर उसकी तस्वीरें देखें तो पता चलता है कि उसने तीसरे बटन से ऊपर गोली चलाई। लेकिन उसने मारने की नीयत से गोली चलाई। ये इस हथियार बारे में पढ़ कर आया था। ये खतरनाक तैयारी से आया था। इसके हाथ में कंट्रीमेड हथियार है। ये कहां से आया? कारतूस कहां से आए? बच्चों से कहना चाहूंगा। ऐसी हरकतों से बाज आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *