Entertainment

जावेद अख्तर और IAS अधिकारी के बीच Twitter पर छिड़ी जंग, फैंस ने लिया खूब मजा

बॉलीवुड एक्टर्स और सिंगर अक्सर राजनीतिक व सामाजिक मुद्दों पर अपनी प्रतिक्रिया देते हैं और उन्हीं में से एक हैं जावेद अख्तर। उन्हें कभी इस बात का डर नहीं रहता कि उनकी बातों का लोग क्या मतलब निकालेंगे। कई बार अपने विचारों के कारण जावेद अख्तर को आलोचनाओं का भी शिकार होना पड़ता है। एक ऐसे ही मामले में जावेद अख्तर और एक आइएएस अधिकारी के बीच ट्विटर पर जंग छिड़ गई।

बता दें कि IAS अधिकारी संजय दीक्षित ने एक मामले में जावेद अख्तर से कई सारे सवाल पूछ डाले और साथ ही कहा कि आपको इतिहास का ठीक प्रकार से ज्ञान नहीं है। संजय दीक्षित की इस बात पर जावेद ने उन्हें कहा कि मैं समझता हूं सब लेकिन आप कुछ ऐसे इतिहासकारों से ज्ञान लें जिनकी कुछ विश्वस्नीयता हो इतिहास में। दरअसल हुआ कुछ यूं कि किसी बात को लेकर संजय दीक्षित ने जावेद अख्तर को टैग करते हुए लिखा कि आप जहांगीर के तारीफ के पुल बांधे इससे पहले क्या आप यह बता सकते हैं कि गुरु अर्जुन देव की हत्या किसने की थी..?, संजय ने दूसरा सवाल पूछा कि, कट्टरपंथी अहमद सरहिंदी का शिष्य कौन था..? इसके बाद उन्होंने तीसरा सवाल किया कि अलाउद्दीन खिलजी की तारीफ के बारे में बताएंगे। इन तीन सवालों के बाद उन्होंने लिखा कि मुझे ऐसा लगता है कि आपका इतिहास का ज्ञान आपके बिल्ले के नंबर 786 से ज्यादा बेहतर नहीं है।

संजय दीक्षित के इस ट्वीट का जावेद ने तुरंत जवाब देते हुए लिखा अधिकारी महोदय आपको यह मालूम होना चाहिए कि जहांगीर ही वह राजा था जिसने शेख सरहिंदी को जेल भेजा था। उन्होंने लिखा कि मुझे लगता है कि आपको कुछ ऐसे इतिहासकारों को पढ़ना चाहिए जिनकी इतिहास में कुछ विश्वस्नीयता हो।

बता दें कि ट्विटर पर एक आईएएस अधिकारी और एक बॉलीवुड सेलिब्रिटी की वार का फैंस काफी मजा उठा रहे हैं। कई यूजर्स भी इनकी जवाबी लड़ाई में कूदे। कुछ अधिकारी के पक्ष में बोल तो कुछ ने जावेद की तरफ से बात कही। एक यूजर ने जावेद अख्तर पर तंज कसते हुए कहा कि अगर खिलजी, औरंगजेब और बाबर इतने ही अच्छे आपको लगते हैं तो फिर क्या अंग्रेज बुरे थे। उसने कहा कि आपके अनुसार तो ब्रिटेन को अभी भी भारत पर राज करना चाहिए। एक ने लिखा कि इन्हें तो अकबर और जहांगीर भी राम के ही समान लगते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *