india

बड़ी संख्या में सैनिकों के CORONA पॉजिटिव मिलने के बाद बनाए ये नए नियम

देश की सेवा में सेना के करीब 750 जवान कोरोना संक्रमित हैं। कोरोना संक्रमण के खतरे का असर देश के केन्द्रीय अर्धसैनिक बलों पर भी पड़ा है जहां अब तक 750 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। इन अर्धसैनिक बलों में सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स, बार्डर सिक्युरिटी फोर्स, सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्युरिटी फोर्स, इंडो टिबेटियन बार्डर पुलिस और सशस्त्र सीमा बल शामिल हैं। इन बढ़ते मामलों को देखते हुए इन फोर्स ने अपने जवानों के लिए नए दिशानिर्देश भी जारी किए हैं।

देश के अलग हिस्सों में लॉकडाउन का पालन करवाने के लिए स्थानीय पुलिस के साथ केन्द्रीय अर्धसैनिक बलों के जवान भी तैनात हैं। जिस वजह से उन्हें भी कोरोना वायरस खतरे का सामना करना पड़ रहा है और अब तक पांच अर्धसैनिक बलों के 750 से ज्यादा जवान कोरोना पाजिटिव हो चुके हैं। जिनमें से सबसे ज्यादा मामले दिल्ली से सामने आए हैं। इसे देखते हुए अर्धसैनिक बलों ने अपने जवानों के लिए कुछ नए नियम जारी किए हैं जिसके तहत जवानों के तैनाती के स्पॉट को सैनिटाइज किया जा रहा है, लौटते ही उनको अपने आप को डिसइनफेक्ट करना अनिवार्य होगा, इसके अलावा हर फोर्स में स्पेशल कोविड-19 सेल बनाया गया है जो कोरोना के मामलों की निगरानी करेगा।

कोई भी संदिग्ध मामला सामने आने के बाद यह सेल तुरंत कांटेक्ट ट्रेसिंग प्रक्रिया शुरू करेगी। जवानों के साथ-साथ उनके हथियार उनके ड्रेस और उनके पोस्ट के आसपास की चीजों को नियमित रूप से सैनिटाइज किया जाएगा। विवेक पांडेय, पीआरओ, आईटीबीपी के मुताबिक इस समय की जरूरत है और इसीलिए यह प्रोटोकॉल तैयार किए गए हैं। अब इसके बेहतर परिणाम भी इसके लागू होने के बाद अब देखने को मिल रहे हैं। बता दें कि अब तक सामने आए कोरोना के मामले-CRPF में अब तक कुल 236 केस कोरोना पॉजिटिव हैं। BSF में 276 केस कोरोना पॉज़िटिव हैं। ITBP में कुल 155 केस कोरोना के आ चुके हैं। CISF में 66 सामने आ चुके हैं। SSB में कुल अब तक 18 कोरोना पॉज़िटिव केस हैं।

कानून व्यवस्था की ड्यूटी के साथ-साथ से देश की सीमाओं और महत्वपूर्ण संस्थानों पर अर्धसैनिक बलों के जवान तैनात हैं। वहां पर भी जवानों को फेस मास्क सैनिटाइजर व अन्य सामान जो इस वायरस से बचाव में कारगर होंगे वह मुहैया करवाए जा रहे हैं। इसके अलावा जवानों के लिए कोरोनावायरस से संबंधित बुकलेट, प्रचार सामग्री भी तैयार करने की प्रक्रिया चल रही है जिसको उन्हें मुहैया करवाया जाएगा ताकि वह इस खतरे के प्रति आगाह हो सके और अपने आसपास की जनता को भी जागरूक कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *