Home india बिहार बोर्ड परिणाम: कोई मजदूर, कोई गरीब का बच्चा बना टॉपर्स, जानिए...इसके...

बिहार बोर्ड परिणाम: कोई मजदूर, कोई गरीब का बच्चा बना टॉपर्स, जानिए…इसके पीछे की कहानियां

बिहार बोर्ड मैट्रिक की परीक्षा के परिणाम मंगलवार को घोषित किए गए। इस बार कुल 80.59% विद्यार्थी पास हुए हैं। रोहतास जिले के हिमांशु राज स्टेट टॉपर रहे तो टॉप 10 स्थानों पर कुल 41 विद्यार्थियों ने कब्जा जमाकर अपना, अपने परिवार और जिले का नाम रोशन किया है। अधिकतर टॉपर्स बेहद गरीब घरों के चिराग हैं, जिन्होंने अपनी शिक्षा की रोशनी से उज्ज्वल भविष्य की ओर कदम बढ़ा दिया है।

बिहार बोर्ड के स्टेट टॉपर हिमांशु राज रोहतास जिले के दिनारा प्रखंड के तेनुअज पंचायत के नटवार कला गांव वार्ड नं 10 के निवासी हैं। हिमांशु राज के पिता सुभाष सिह सब्जी बेचकर अपने परिवार का भरण पोषण करते है। माता मंजू देवी कुशल गृहिणी है। हिमांशु से बड़ी एक बहन है जो इंटर में पढ़ती है। हिमांशु की इच्छा तो ऊंची उड़ान भरने की है लेकिन परिवार की आर्थिक परेशानी को देखते हुए उन्होंने सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने की बात कही।

बिहार बोर्ड परीक्षा में दूसरे स्थान पर रहे दुर्गेश कुमार उजियारपुर थाना क्षेत्र के मालती के समीप स्थित बिदुलिया गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने समस्तीपुर के जितवारपुर स्थित श्रीकृष्णा हाई स्कूल से मैट्रिक की परीक्षा दी थी। किसान जयकिशोर सिंह के बेटे दुर्गेश ने कहा कि उनकी सफलता के पीछे उसके माता पिता का योगदान महत्वपूर्ण है। मां-पिता की प्रेरणा से ही उन्हें इतनी बड़ी सफलता मिली है। दुर्गेश चार भाई बहनों में सबसे छोटे हैं। दुर्गेश के पिता खेतीबारी कर अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। दुर्गेश ने बताया कि आईआईटी कर एक कुशल इंजीनियर बन देश की सेवा करना उनका लक्ष्य है।

बिहार के टॉप-3 टॉपर्स की सूची में एक छात्रा ने कब्जा जमाया है। छात्रा जूली कुमारी को 478 अंक हासिल हुए हैं। बिहार के अरवल जिले की रहने वाली जूली ने बालिका हाई स्कूल से पढ़ाई की है। जूली के अलावा भोजपुर जिले के हरखेन कुमार जैन के शुभम कुमार को भी 478 अंक ही मिले हैं। इसके अलावा औरंगाबाद के रहने वाले राजवीर सिंह को भी 478 अंक ही मिले। राजवीर पटेल हाई स्कूल के छात्र हैं।

जिले के दाउदनगर पटवा टोली निवासी गोपाल प्रसाद के पुत्र मुन्ना कुमार ने मैट्रिक परीक्षा में राज्य भर में चौथा स्थान प्राप्त किया है। मुन्ना को कुल 477 अंक मिले हैं। मुन्ना बेहद गरीब परिवार से हैं और इनके पिता मजदूरी करते हैं।

मुन्ना ने बताया कि वे आगे पढ़ाई कर आईएएस बनना चाहते हैं। मुन्ना ने बताया कि पढ़ाई के दौरान वे कोचिंग भी जाते थे। रोजाना 8 घंटे सेल्फ स्टडी करते थे। मुन्ना की सफलता पर पिता गोपाल प्रसाद काफी खुश हैं। मुन्ना चार भाइयों में सबसे छोटा है। इनकी दो बहनें हैं। अपने घर मे पढ़ाई करने वाला मुन्ना एकलौता है। इनके सभी भाई मात्रा 5वीं तक ही पढ़े किए हैं। भाई मनोज, योगेंद्र और विनय तीनों मजदूरी करते हैं। बहन चंद्रावती और मलती घर का काम संभालती है। मां नगवा देवी भी मजदूरी करती हैं। मुन्ना ने सफलता का श्रेय अपने माता-पिता, भाई बहन के अलावा शिक्षकों को दिया है। पढ़ाई कर रहे छात्रों को मन लगाकर पढ़ने और अनुशासन में रहने की सलाह दी है। इनका मानना है कि मेहनत के अलावा सफलता की कोई सीढ़ी नहीं है।

औरंगाबाद जिले के दाउदनगर प्रखंड के मिश्र बिगहा निवासी शिक्षक अशोक मिश्रा के बेटे अंकित कुमार ने राज्य में छठा स्थान प्राप्त किया है। अंकित को मैट्रिक परीक्षा में 475 अंक मिले हैं। अंकित पटेल हाई स्कूल दाउदनगर का छात्र है। अंकित ने बताया कि वह पढ़ाई कर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहता है। अंकित ने सेल्फ स्टडी और स्कूल की पढ़ाई के बदौलत यह सफलता हासिल की है। अंकित ने बताया कि वह किसी कोचिंग में पढ़ाई करने नहीं जाता था। पिता ही घर पर पढ़ाते थे। वह रोजाना 7 घंटा सेल्फ स्टडी करता था। अंकित की मां माया देवी गृहणी हैं। अंकित दो भाई और एक बहन है। बड़े भाई हिमांशु ने इस बार 12वीं की परीक्षा पास की है। बहन स्वीटी कुमारी छठी कक्षा की छात्रा है। अंकित ने सफलता का श्रेय अपने माता पिता भाई बहन के अलावा शिक्षकों को दिया है।

किसान उच्च विद्यालय, मोरसंड की छात्रा और समस्तीपुर प्रखंड के चकहाजी (रूप नारायणपुर बेला पंचायत) निवासी संजीव कुमार राम व विनीता कुमारी की पुत्री दीपांशु प्रिया ने मैट्रिक की परीक्षा में राज्य में छठा रैंक पाकर जिले का नाम रौशन किया है। मां-पिता समेत बड़े भाई प्रियांशु अमन व छोटे भाई आयुष अमन की दुलारी बहन दीपांशु ने प्रारंभिक शिक्षा गांव के स्कूल से पूरी की। बाद में किसान उच्च विद्यालय, मोरसंड से 10वीं की परीक्षा पूर्ण लगन व मेहनत से दी। अब तक शिक्षकों, स्वाध्याय और माता पिता के सहयोग से इस मुकाम तक पहुंचने वाली दीपांशु भविष्य में आईएएस अफसर बनना चाहती है। वर्तमान मे पिता गांव मे ही किराना की छोटी सी दुकान चलाते हैं तो मां जीविका में सीएनआरसी के पद पर कार्यरत है। मंगलवार को रिजल्ट आते ही उसे बधाई देने वालों का घर पर तांता लगा रहा।

घर में पढ़ाई लिखाई का माहौल मिला तो हेमंत की प्रतिभा को निखरने का अतिरिक्त अवसर प्राप्त हो गया। शिक्षक पिता के मार्गदर्शन में हुलासगंज प्रखंड के सूरजपुर गांव के हेमंत ने मैट्रिक परीक्षा की गंभीरता से तैयारी की और उसे इसका सुखद परिणाम भी प्राप्त हुआ। परीक्षा में 472 अंक लाकर सूबे में 9वीं रैंक हासिल करने पर हेमंत के घर में मंगलवार को काफी खुशी का माहौल था।

पिता अरुण कुमार और आंगनवाड़ी सेविका के रूप में कार्यरत माता बबली कुमारी का चेहरा गर्व से भरा हुआ था। हुलासगंज उच्च विद्यालय के छात्र हेमंत ने कहा कि उसे शुरू से ही उम्मीद थी कि परीक्षा में 95 फीसदी के करीब अंक आएंगे। मेडिकल संस्थान में प्रवेश के इच्छुक उक्त होनहार छात्र ने परीक्षा की अपनी तैयारी के बारे में बताया कि पिता के एक दोस्त से भी उसे तैयारी में काफी मदद मिली। गणित और विज्ञान के अच्छे जानकार अरुण कुमार ने भी अपने बेटे की पढ़ाई पर नजर बनाए रखी और उसे टिप्स देते रहे। उसने बताया कि महत्वपूर्ण यह नहीं है कि आप कितना घंटा पढ़ते हैं, बल्कि महत्वपूर्ण है कि आप कितनी गंभीरता से पढ़ते हैं और चीजों को कितना समझ पाते हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

जानिए….आखिर BJP प्रवक्ता संबित पात्रा पर क्यों भड़कीं दीया मिर्जा?

कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई। जिसमें 60 वर्ष के एक नागरिक की जान चली गई। मृतक की...

जल्द ही प्रियंका गांधी होंगी बेघर, जानिए…क्या है पूरा मामला?

केंद्र की मोदी सरकार चीन को आर्थिक मोर्चे पर झटके पर झटके दे रहा है। वहीं, एक झटका कांग्रेस की राष्ट्रीय ...

PM मोदी ने छोड़ा चीनी ऐप Weibo, ढाई लाख के करीब थे फॉलोअर

भारत और चीन के बीच स्थिति बेहद ही तनावपूर्ण है। मोदी सरकार चीन को आर्थिक मोर्चे पर झटके पर झटके दे रही है।...

मोदी सरकार ने चीन को दिया एक और जोरदार झटका, हाइवे प्रोजेक्ट्स में बैन होंगी चीनी कंपनियां

भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद देश में चीन के खिलाफ जमकर विरोध किया जा रहा है। हर कोई...

Recent Comments