india

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो देखकर गुस्से से लाल हुए जमाती, अस्पताल में कर रहे हैं ऐसी हरकतें…

देश भर में लॉकडाउन के बावजूद दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज में हजारों की संख्या में लोग इकट्ठा हुए। जिसके बाद से देश में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। बता दें कि दिल्ली के कई क्वारंटाइन सेंटरों में जमातियों को रखा गया। जमातियों के मोबाइल जब्त किए गए। क्वारंटाइन सेंटरों से लगातार मिल रही शिकायत के बाद यह कदम उठाया गया है। सभी जमातियों के मोबाइल क्वारंटाइन पीरियड खत्म होने पर सेंटरों में प्रबंधक अपने पास रखेंगे।

जानकारी के मुताबिक, ये जमाती मोबाइल पर यू-ट्यूब और अन्य सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो आदि देखकर ये लोग उग्र व्यवहार कर रहे है। अधिकारियों का यह भी कहना है कि निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात की मरकज से निकालकर अलग-अलग सेंटरों में क्वारंटाइन किए गए जमाती मोबाइल और सोशल मीडिया के जरिये एक-दूसरे के संपर्क में हैं। ऐसे में इन लोगों के मोबाइल लेना बहुत जरूरी हो गया है। अगर ये एक बार मोबाइल विहीन हो जाएंगे तो शायद इनकी ऊल-जलूल हरकतें भी थम जाएंगी। 

वहीं, सेंटर के लोगों का कहना है कि मोबाइल से संक्रमण फैलने का भी खतरा है। दरअसल, विशेषज्ञों का मानना है कि मोबाइल की सतह पर कोराना वायरस करीब नौ घंटे तक जिंदा रह सकता है। ऐसे में इससे संक्रमण बढ़ने के खतरे से इनकार नहीं किया जा सकता है। जानकारी मिली है कि जमाती क्वारंटाइन सेंटरों में डॉक्टरों व अन्य स्टाफ की फोटो खींच रहे हैं और वीडियो बना रहे हैं। इसलिए भी इन लोगों के मोबाइल जब्त करना जरूरी है।

बताया जा रहा है कि जमाती अलग-अलग सेंटरों में क्वारंटान जमातियों से संपर्क कर उनके यहां की व्यवस्था आदि पूछते हैं। इस आधार पर वे ऊल-जलूल मांग करते हैं। वे कहते हैं कि फलां सेंटर पर जमातियों को अच्छा खाना दिया जा रहा है, हमें क्यों नहीं मिल रहा। यानी कि दूसरे सेंटर पर अच्छा भोजन व सुविधा दिए जाने की बात कहकर वे खुद के लिए भी अच्छी व्यवस्था की मांग कर रहे हैं। साथ ही अलग-अलग मांग करके स्टाफ को परेशान भी करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *