Categories
india News Politics

ओवैसी ने दिल्ली हिंसा को लेकर केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा-‘सरकार समर्थित है दिल्ली हिंसा…’

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में हो रही हिंसा रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। वहीं, नेताओं की भी बयानबाजी भी जारी है। एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने दिल्ली हिंसा पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। ओवैसी ने दिल्ली हिंसा को राज्य प्रायोजित बताया है। उन्होंने कहा कि अगर बीजेपी का एक पूर्व विधायक इलाके के डीसीपी को अल्टीमेटम देता है तो ये बताता है कि उसे ऊपर से अनुमति मिली हुई है। उन्होंने कहा कि सरकार ने सख्ती क्यों नहीं की?

ओवैसी ने कहा कि अगर सरकार को इस बात की जानकारी थी कि ट्रंप के दौरे के दौरान हिंसा हो सकती है तो उन्होंने कार्रवाई क्यों नहीं की। ये साम्प्रदायिक हिंसा नहीं है बल्कि सरकार समर्थित हिंसा है। ओवैसी ने कहा है कि दिल्ली पुलिस बिना कारण भारतीयों का सम्मान छीन रही है और उनका अपमान कर रही है. ओवैसी ने कहा कि अब कार्रवाई का वक्त है।

ओवैसी ने एक वीडियो ट्वीट करते हुए गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधा है। ओवैसी ने ट्वीट करते हुए लिखा, “अमित शाह आपकी पुलिस भारतीयों का सम्मान छीन रही है और बिना कारण उन्हें नीचा दिखा रही है। अभी कार्रवाई करें, ये पुलिसकर्मी कठोरतम कानूनी सजा के हकदार हैं।”

दिल्ली में बगड़ते हालत को देखते हुए अर्द्धसैनिक बलों की 35 कंपनियां तैनात कर दी गई है। इसके अलावा यहां पर स्पेशल सेल, क्राइम ब्रांच, आर्थिक अपराध शाखा के पुलिसकर्मियों की भी तैनाती की गई है। दिल्ली के अलग-अलग जिलों से स्थानीय पुलिस को भी बुला लिया गया है। हालात को देखते हुए दिल्ली के इस इलाके में एक महीने के लिए धारा-144 लगा दी गई है।

Categories
india News

“पाकिस्तान जिंदाबाद” के नारे लगाने वाली लड़की के पिता ने किए चौंकाने वाले खुलासे

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमियन शेफ असदुद्दीन ओवैसी नागरिकता संशोधन कानून को लेकर लगातार विरोध कर रहे हैं। बता दें कि बेंगलुरु में असदुद्दीन ओवैसी की एंटी नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) रैली के दौरान जमकर हंगामा हुआ। अमूल्या लियोन नाम की लड़की ने पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी की। अमूल्या की नारेबाजी पर उसके पिता ने नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि अमूल्या ने जो कहा, वह उसे नहीं कर पाएगी।

अमूल्या के पिता ने कहा कि उनकी बेटी ने एंटी सीएए रैली में जो किया, वह बिल्कुल गलत था। उसने जो कहा वह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मैंने कई बार उनसे कहा कि वे मुसलमानों से न जुड़ें। उसने नहीं सुना। मैंने उसे कई बार भड़काऊ बयान नहीं देने के लिए कहा है लेकिन उसने नहीं सुना। उन्होंने आगे कहा कि मेरी तबीयत खराब है, फिर भी मैं यहां आया। मैं हार्ट का मरीज हूं, लेकिन उसने मुझसे कहा कि आप खुद अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें। मैंने फोन काट दिया और मेरी तब से बात नहीं हुई।

इस पूरे घटनाक्रम के बारे में जब असदुद्दीन ओवैसी से बात की गई। तो ओवैसी ने कहा कि मैं इस घटना की निंदा करता हूं। उन्होंने आगे कहा कि मैं रैली को संबोधित करने वाला था। तुरंत ही मैंने यह बकवास सुना। मैं उसकी ओर बढ़ा और उसे रोका। मैंने कहा कि यह क्या है? आप क्या बकवास कह रहे हैं? हम इस बात को कभी बर्दाश्त नहीं करेंगे। बाद में पुलिस आ गई।

असदुद्दीन ओवैसी ने उम्मीद जताई कि आयोजक रैली में पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाने वाली अमूल्या लियोन के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। बता दें कि जब अमूल्या लियोन के एक फेसबुक पोस्ट की भी पड़ताल की गई, जो 16 फरवरी को लिखा गया था। इस पोस्ट में उन्होंने कहा कि एक राष्ट्र का मतलब अपने लोगों से है, जिन्हें मूलभूत सुविधाएं मिलनी चाहिए और वे अपने मौलिक अधिकारों का लाभ उठा सकते हैं।

Categories
News Politics

महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव की मूर्ति स्थापित करने पर ओवैसी को आया गुस्सा, PM मोदी को दिलाई…

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी बीजेपी पर निशाना साधने का कोई भी मौका हाथ से नहीं जाने देते। ओवैसी आए दिन प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना करते रहते हैं और इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ है। ओवैसी ने पीएम मोदी पर प्रहार करते हुए उन्हें संविधान तक की याद दिलवा दी।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 फरवरी को काशी महाकाल एक्सप्रेस वाराणसी से को हरी झंडी दिखाई थी। वहीं, महाकाल एक्सप्रेस की सेवा 20 फरवरी से यात्रियों के लिए शुरू की जा रही है। साथ ही आने वाले शिवरात्रि के मौके पर महाकाल एक्सप्रेस वाराणसी से इंदौर के बीच चलाई जाएगी।

आपको बता दे की, काशी महाकाल एक्सप्रेस के कोच B5 की सीट नंबर 64 पर भगवान शिव की मूर्ति स्थापित की गई हैं। लोगों ने ट्रेन में पूरे कोच को भगवान शिव के छोटे मंदिर का दर्जा दे दिया है। जिस बात को लेकर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी नाराज चल रहे हैं।

असदुद्दीन ओवैसी ने ट्विटर पर पीएम मोदी को सविंधान की याद दिलाते हुए कहा की, प्रस्तावना का हिस्सा ‘अवसर की समानता’ को पोस्ट किया। उन्होंने ने राष्ट्र की एकता और अखंडता वाली पंक्ति पोस्ट की। उन्होंने आगे बताया की, इस तरह महाकाल एक्‍सप्रेस में भगवान शिव के लिए कोई जगह नहीं हैं।

काशी महाकाल एक्‍सप्रेस में आम यात्रियों के लिए वाई-फाई, सीसीटीवी कैमरा, कॉफी मशीन, एलसीडी जैसी सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई हैं। साथ ही सरकार की ओर से ऐलान किया गया है कि काशी महाकाल एक्सप्रेस में सफर करने वाले हर यात्री को 10 लाख रुपये का यात्रा बीमा भी उपलब्ध होगा।

Categories
india News

जामिया लाइब्रेरी वीडियो को लेकर असदुद्दीन ओवैसी ने दिल्ली पुलिस पर लगाया गंभीर आरोप

जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी का एक पुराना वीडियो खूब वायरल हो रहा है। लेकिन ये वीडियो अब राजनैतिक रंग लेने लगा है। हिंसा के वायरल हो रहे कथित वीडियो को लेकर AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने दिल्ली पुलिस पर सवाल उठाए हैं। ओवैसी ने आरोप लगाया है कि दिल्ली पुलिस ने झूठ कहा कि वो जामिया के अंदर नहीं घुसी। बल्कि दिल्ली पुलिस जामिया के अंदर घुसी और एक बच्ची की आंख को ज़ख्मी कर दिया।ओवैसी ने कहा कि वीडियो से पता चलता है कि बच्चे बाहर निकलना चाहते थे लेकिन पुलिस पीछे से बच्चों को मार रही थी। उन्होंने कहा कि जामिया के वाइस चांसलर ने MHRD को पुलिस के खिलाफ शिकायत की और पुलिस के खिलाफ FIR दर्ज होनी चाहिए।

15 दिसंबर को जामिया की घटना को लेकर छात्र द्वारा दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। कोर्ट ने मामले में मोदी सरकार, दिल्ली पुलिस और दिल्ली के अरविंद केजरीवाल सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। दरअसल, एक छात्र शाययान मुजीब की याचिका पर उसकी चोटों के लिए दो करोड़ रुपये के मुआवजे की मांग की गई थीं। उन्होंने कहा कि वह पुस्तकालय में बैठे थे, इसी दौरान पुलिस ने वहां पहुंचकर उनकी पिटाई कर दी। जिसके बाद उसने करीब 2.5 लाख रुपये खर्च किए क्योंकि उनके दोनों पैर फ्रैक्चर हो गए थे।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को काशी महाकाल एक्सप्रेस का उद्घाटन किया, जिसमें एक सीट भगवान शिव के लिए सेफ रखी गई है। इसे लेकर असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल खड़े किए हैं। वाराणसी में काशी महाकाल एक्सप्रेस के बी5 कोच में सीट नंबर 64 को मंदिर के रूप में बदल दिया गया है। यहां भगवान शिव का छोटा सा मंदिर बनाया गया है, ताकि ट्रेन में भी लोगों को भगवान शिव के दर्शन करने को मिलें। इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टैग करते हुए संविधान की प्रस्तावना को साझा किया। ओवैसी इससे पहले भी मोदी सरकार पर धर्म के आधार पर राजनीति करने का आरोप लगाते रहे हैं, जिसमें नागरिकता संशोधन एक्ट, नेशनल रजिस्टर फॉर सिटीजन को लागू करना भी शामिल है।

Categories
india News Politics

CAA-NRC पर बोले ओवैसी कहा-‘कागज नहीं सीना दिखाएंगे, हिम्मत है तो मारो गोली…’

नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के खिलाफ विपक्ष का विरोध लगातार जारी है। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कागज न दिखाने की चुनौत दी है। ओवैसी ने कहा कि मैं दिल पर गोली खाने के लिए तैयार हूं।

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि जो मोदी-शाह के खिलाफ आवाज उठाएगा वो सही मायने में मर्द-ए-मुजाहिद कह लाएगा। मैं वतन में रहूंगा, कागज नहीं दिखाऊंगा। कागज अगर दिखाने की बात होगी तो सीना दिखाएंगे की गोली मारे। दिल पर गोली मारिए क्योंकि दिल में भारत की मोहब्बत है।

ज्ञात है कि नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में 15 दिसंबर से ही विरोध प्रदर्शन हो रहा है। इस प्रदर्शन में हिस्सा लेने वालों में अधिकतर मुस्लिम महिलाएं शामिल हैं। भारतीय जनता पार्टी की ओर से दिल्ली के चुनाव में इसे मुद्दा बनाया जा रहा है और प्रदर्शन को राजनीतिक बताया है।

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, बीजेपी के सांसद प्रवेश वर्मा समेत कई अन्य नेताओं ने बयान दिया है कि दिल्ली में बीजेपी की सरकार बनते ही शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी उठ जाएंगे। प्रवेश वर्मा ने एक सभा में कहा था कि 11 फरवरी को बीजेपी की सरकार बनने के एक घंटे बाद ही शाहीन बाग को खाली करा दिया जाएगा। सिर्फ सांसद या मंत्री ही नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अपनी सभाओं में शाहीन बाग को मुद्दा बनाया। पीएम मोदी ने शाहीन बाग के प्रदर्शन की तुलना अराजकता से की थी।

Categories
india News Politics

योगी का ओवैसी पर जोरदार हमला, कहा-‘केजरीवाल की तरह एक दिन ओवैसी भी पढ़ेगा हनुमान चालीसा’

दिल्ली विधानसभा चुनावों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत बीजेपी के कई बड़े-बड़े मंत्री ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे हैं। बीजेपी के प्रचार में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ बनाम असदुद्दीन ओवैसी की लड़ाई तेज होती जा रही है। योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को दिल्ली के किरारी में रैली के दौरान ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी पर निशाना साधा। योगी ने कहा कि अभी तो केजरीवाल ने हनुमान चालीसा ही पढ़ना शुरू की है, आप देखना आगे-आगे क्या होता है, ओवैसी भी एक दिन हनुमान चालीसा पढ़ता दिखाई देगा।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि केजरीवाल शाहीन बाग में बिरयानी खिलाते हैं और हनुमान चालीसा पढ़ते हैं, वो यह बताने के लिए की मैं हिंदू हूं। तो वहीं, गोरखपुर से बीजेपी सांसद रवि किशन ने भी कहा, ‘केजरीवाल को शाहीन बाग में बिरयानी खिलाने के बाद अचानक याद आई है कि मैं हिन्दू हूं। हनुमान जी को अब ये बुड़बक नहीं बना सकते। हनुमान चालीसा पढ़ें या पेड़ पर उल्टा लटक जाएं, ये चुनाव वो हार रहे हैं।’

वहीं, असदुद्दीन ओवैसी की ओर से एआईएमआईएम के प्रवक्ता वारिस पठान की ओर से जवाब दिया है। वारिस पठान ने कहा कि हमें हमारा संविधान नमाज पढ़ने की इजाजत देता है। वारिस पठान ने ट्वीट करते हुए कहा कि योगी आदित्यनाथ ने संविधान की शपथ ली है, लेकिन ये बिल्कुल वैसी ही भाषा है जो शाहीन बाग के टेररिस्ट की थी। भारत में जितना तुम्हें हनुमान चालीसा पढ़ने का हक है, उतना ही असदुद्दीन ओवैसी को कुरान और नमाज पढ़ने का हक है।

Categories
News Politics

ओवैसी का बीजेपी के मंत्री पर पलटवार, कहा-‘जगह बताएं जहां आप मुझे गोली मारेंगे, मैं आने को तैयार’

दिल्ली में चुनावी माहौल के बीच बीजेपी ने रिठाला में एक चुनावी रैली का आयोजन किया था। रैली में केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी शिरकत की थी। ठाकुर ने अपने भाषण के दौरान “देश के गद्दारों को गोली मारने” वाला भड़काऊ नारा दिया था। जिसके बाद राजनीतिक तौर पर काफी विवाद बढ़ गया है। मंगलवार को चुनाव आयोग ने अनुराग ठाकुर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

बता दें कि AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने मुंबई में एक कार्यक्रम के दौरान मंच पर अनुराग ठाकुर के इस बयान पर सीधा हमला करते हुए चुनौती दी कि मैं आपको चैलेंज देता हूं कि भारत में वह जगह बताए जहां आप मुझे गोली मारेंगे, मैं आने को तैयार। मुंबई के नागपाड़ा के झूला मैदान में आयोजित कार्यक्रम के दौरान ओवैसी ने यह बयान दिया।

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि अनुराग ठाकुर मैं चुनौती देता हूं, भारत में वह जगह बताए, जहां आप मुझे शूट करेंगे और मैं आने को तैयार हूं। आपका बयान मुझमें कोई भय पैदा नहीं करेगा, क्योंकि हमारी मां और बहनें बड़ी संख्या में सड़क पर हैं और उन्होंने देश को बचाने का फैसला लिया है।

आपको बता दें कि ओवैसी ने इस मामले को लेकर ट्वीट कर हमला बोला। वीडियो के वायरल होने के बाद AIMIM के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, ‘ठाकुर का काम एक ऐसी अर्थव्यवस्था को ठीक करना है जो प्रतिदिन रिकॉर्ड तोड़ गिरावट पर है, लेकिन यहां वो हिटलर के वित्त मंत्री वाल्थर फंक की तरह व्यवहार कर रहे हैं जिसे बाद में युद्ध प्रयासों और युद्ध अपराधों के लिए सजा मिली थी। हो सकता है आगे ठाकुर यह भी कहें कि ‘कितने आदमी थे’ और साहब खुश हो जाएं।’

Categories
News Politics

ओवैसी ने गृह मंत्री अमित शाह को दी चुनौती, बोले- मैं अमित शाह के साथ खुली बहस करना चाहता हूं

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर AIMIM असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को खुली बहस करने के लिए चुनौती दी है। हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा सीएए पर अखिलेश, राहुल गांधी और ममता बनर्जी को बहस की चुनौती दिए जाने पर कहा कि उनसे क्यों बहस करेंगे, मुझसे (दाढ़ी वाले आदमी) बहस करिए।

असदुद्दीन ओवैसी ने करीमनगर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए ने कहा कि वे नागरिकता कानून, एनपीआर और एनआरसी पर बहस करने के लिए तैयार हैं। उन्होने कहा कि आपको (अमित शाह) मेरे साथ बहस करनी चाहिए। उनके साथ बहस क्यों? बहस एक दाढ़ी वाले शख्स के साथ होनी चाहिए। मैं सीएए, एनपीआर और एनआरसी पर बहस कर सकता हूं।

दरअसल, सीएए और एनआरसी को लेकर आरोप लगाया जा रहा है कि यह मुस्लिमों के साथ भेदभापूर्ण है। वहीं सरकार इस आरोप से इनकार कर रही है। लखनऊ में सीएए के समर्थन में रैली के दौरान अमित शाह ने कहा था कि इस मसले पर विपक्ष भ्रम फैला रहा है और दंगे करवा रहा है।

गौरतलब है कि लखनऊ में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए कहा था कि मैं विपक्षियों से कहना चाहता हूं कि आप इस बिल पर सार्वजनिक रूप से चर्चा कर लो। यदि ये अगर किसी भी व्यक्ति की नागरिकता ले सकता है, तो उसे साबित करके दिखाओ। उन्होंने कहा कि देश में सीएए के खिलाफ भ्रम फैलाया जा रहा है, दंगे कराए जा रहे हैं। सीएए में कहीं पर भी किसी की नागरिकता लेने का कोई प्रावधान नहीं है, इसमें नागरिकता देने का प्रावधान है। मैं आज डंके की चोट पर कहने आया हूं कि जिसको विरोध करना है करे, सीएए वापस नहीं होगा।