Categories
Entertainment india News

इन 7 अभिनेत्रियों को डेट कर चुके हैं सिद्धार्थ शुक्ला, जानिए…कौन हैं वो अभिनेत्रियों

‘बिग बॉस 13’ का खिताब जितने के बाद से ही अभिनेता सिद्धार्थ शुक्ला काफी चर्चाओं में हैं। बिग बॉस 13 की जर्नी के दौरान सिद्धार्थ की इमेज एक गुस्सैल और बैड ब्वॉय की रही है। हालांकि उनकी इस इमेज का उन्हें फायदा ही हुआ, जिसके दम पर उन्होंने बिग बॉस की ट्रॉफी अपने नाम की, लेकिन इस शो के दौरान सिद्धार्थ की पर्सनल लाइफ पर भी खूब बातें हुईं, उन्हें दिलफेंक, फ्लर्टबाज, लड़कीबाज जैसे शब्दों से भी संबोधित किया गया। हाल ही में शिल्पा शिंदे ने उन्हें लेकर कई चौंकाने वाले खुलासे किए थे और सिद्धार्थ पर कई गंभीर आरोप भी लगाए थे। आज हम आपको सिद्धार्थ के अफेयर के बाद में बताएंगे। साथ ही ये भी बताएंगे कि सिद्धार्थ इतनी अभिनेत्रियों को डेट कर चुके हैं।

शिल्पा शिंदे

इस बात को और बढ़ावा तब मिला जब पूर्व बिग बॉस विनर शिल्पा शिंदे ने ये कह दिया कि वो भी एक वक्त पर सिद्धार्थ शुक्ला के प्यार में गिरफ्तार थीं लेकिन उनके आक्रामक और गुस्सैल नेचर की वजह से वो उनसे दूर हो गईं, शिल्पा ने कहा था कि सिद्धार्थ अपनी चीजों के लेकर काफी पजेसिव है, इसलिए वो मरने-मारने पर उतर आता है, वो जब उसे डेट कर रही थीं, तब सिद्धार्थ ने उनके साथ कई बार गाली-गलौज और मारपीट की थी, जिसके कारण उनका ब्रेकअप हुआ था।

रश्मि देसाई

रिलेशनशिप की बात हुई है, तो जाहिर है कि सबसे पहला नाम रश्मि देसाई का ही आएगा, जो कि बिग बॉस 13 में सिद्धार्थ के साथ ही एक प्रतियोगी थीं, शो में दोनों की बीच एक हॉट कमेस्ट्री देखी गई, इस शो से पहले दोनों टीवी सीरयल ‘दिल से दिल तक’ में साथ काम कर चुके थे, दोनों के अफेयर की बातें उस वक्त भी सुनी गई थीं, हालांकि बाद में रश्मि देसाई ने ये कहकर सबको चौंका दिया था कि हमारे ब्रेकअप के बाद सिद्धार्थ ने उन्हें सीरयल ‘दिल से दिल तक’ से निकलवाने की कोशिश की थी।

स्मिता बंसल
बात हैरान करने वाली है लेकिन सच है, सीरयल ‘बालिका वधु’ में शिव का किरदार प्ले करके लोगों के दिलों पर राज करने वाले सिद्धार्थ शुक्ला का नाम टीवी अभिनेत्री स्मिता बंसल से भी जुड़ा था, उम्र में सिद्धार्थ से मात्र दो साल बड़ी स्मिता बंसल ने ‘बालिका वधु’ में सिद्धार्थ की सास (जगदीश की मां) का रोल प्ले किया था, ऐसे में जब दोनों के अफेयर की बातें सामने आईं तो लोग हैरान रह गए थे, हालांकि लंबे समय तक इस विषय पर गॉसिप होती रही लेकिन दोनों में से किसी ने इस पर कभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

दृष्टि धामी
टीवी की मशहूर अदाकारा दृष्टि धामी और सिद्धार्थ शुक्ला के अफेयर की खबरें ‘झलक दिखला जा’ के सेट से आई थीं, कहा जाता है कि दोनों एक्टर शो के दौरान एक-दूसरे के करीब आए और लंबे समय तक डेटिंग की, लेकिन बाद में दोनों की बनी नहीं और फिर दोनों अलग हो गए, फिलहाल दृष्टि धामी, नीरज खेमका के साथ शादीशुदा जिंदगी में खुश हैं।

शेफाली जरीवाला
कांटा लगा’ फेम एक्ट्रेस शेफाली जरीवाला मीत बद्रर्स के म्यूजिशियन हरमीत से शादी से पहले सिद्धार्थ को डेट कर चुकी हैं, उन्होंने खुद इस बारे में बिग बॉस में एंट्री करने के बाद बताया था, हालांकि हरमीत से शेफाली की शादी चली नहीं और उनका 2009 में तलाक हो गया, इसके बाद में शेफाली ने एक्टर पराग त्यागी से साल 2014 में शादी कर ली और आज दोनों काफी खुश हैं।

आरती सिंह
बिग बॉस के घर में एंटर करने से पहले चर्चा थी कि सिद्धार्थ और आरती सिंह डेट कर चुके हैं, शेफाली बग्गा ने भी खुलासा किया था कि आरती, सिद्धार्थ दोनों एक वक्त पर रिलेशनशिप में थे लेकिन बाद में दोनों की बनी नहीं, हालांकि आरती औैर सिद्धार्थ ने कभी इस बारे में कोई टिप्पणी नहीं की।

पवित्रा पुनिया
सिद्धार्थ शुक्ला और पवित्रा पुनिया ने ‘लव यू जिंदगी’ में साथ काम किया था। दोनों के भी डेटिंग की चर्चा थी, हालांकि इन्होंने पहले इसे दोस्ती ही कहा था लेकिन बाद में पवित्रा ने ये कहकर सबको चौंका दिया था कि सिद्धार्थ के गुस्से की वजह से उनका ब्रेकअप हो गया।

Categories
Entertainment News

National Girl Child Day: देश की ये वो होनहार बेटियां जिन्होंने परिवार से लड़कर बनाई अपनी एक अलग पहचान

राष्ट्रीय बालिका दिवस भारत में हर साल 24 जनवरी को मनाया जाता है। समाज में महिलाओं के साथ हुए भेदभाव के खिलाफ एक अभियान के तौर इसे मनाया जाता है। भारत एक पुरुष प्रधान देश रहा है, जहां बेटियों और महिलाओं को कहीं ना कहीं पुरुषों से कम तरजीह दी जाती रही हैष हालांकि, अब हालात बदल रहे हैं और मौजूदा वक्त में लड़कियां भी लड़कों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं। लोगों की सोच बदली है, अब समाज के लोग हर क्षेत्र में बेटियों को बेटों के मुकाबले बराबरी का दर्जा दे रहे हैं।

हमारे समाज में कई ऐसी बेटियां, बहुएं, महिलाएं हैं, जो अपने परिवार और सामाजिक भेदभाव से संघर्ष करके मेहनत, लगन से आगे बढ़ीं। नेशनल गर्ल चाइल्ड डे के मौके पर हम आपको ऐसी कुछ महिलाओं के बारे में बताएंगे। जिन्हें अपने परिवार में किसी ना किसी तरह भेदभाव का सामना करना पड़ा। चाहे वो शिक्षा का अधिकार हो या फिर सुरक्षा या सम्मान का। उनमें बॉलीवुड स्टार कंगना रनौत, कॉमेडियन भारती सिंह भी शामिल हैं।

कंगना रनौत


बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने तीन साल पहले अपने एक बयान में कहा था कि उनके जन्म पर परिवार में खुशी का माहौल नहीं था। कंगना अपने परिवार की अनचाही संतान थीं। एक्ट्रेस ने समाज में लोगों की पिछड़ी सोच के बारे में बात करते हुए कहा था कि कई घरों में लड़कियों के पैदा होने पर खुशी नहीं होती। कंगना ने आगे बताया कि ऐसे ही मेरे जन्मदिन पर परिवार में खुशी और जश्न का माहौल नहीं था। हालांकि, बाद में मीडिया रिपोर्ट्स में खबर आई थी कि उनके पिता ने कंगना की बात को खारिज करते हुए कहा कि कंगना के जन्म पर उन्होंने कभी अफसोस नहीं किया।

भारती सिंह


भारती सिंह एक ऐसी कॉमेडियन हैं, जिन्होंने अपनी जिंदगी में कई उतार चढ़ाव देखे हैं। बचपन से दर्द और आंखों में आंसू लेकर बड़ी हुई भारती सिंह आज देशभर में लोगों के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए काम करती हैं। एक गरीब परिवार में जन्मी भारती सिंह अपने परिवार में सबसे छोटी हैं। भारती ने कई शोज में बताया कि जब वो अपनी मां के पेट में थीं, तो गरीबी के चलते उनकी मां उन्हें गर्भ में ही मार देना चाहती थीं। भारती की मां ने पेट में ही उन्हें मारने के लिए कई पैतरे अजामाए थे, लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। मां की तमाम कोशिशों के बावजूद भारती स्वस्थ पैदा हुईं।

मायावती


अपने समर्थकों के बीच ‘बहनजी’ के नाम से मशहूर और पहली दलित मुख्यमंत्री मायावती की अपनी एक अलग पहचान है। मायावती को अपने ही घर में भेदभाव का सामना करना पड़ता था। मायावती ने दलित होने पर नहीं बल्कि लड़की होने पर भेदभाव का सामना किया था। इस बात का खुलासा मायावती की बायोग्राफी के लेखक अजय बोस ने अपनी किताब ‘बहनजी- बायोग्राफी ऑफ मायावती’ में भी किया है। मायावती पर लिखी किताब में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि परिवार से तंग आकर ही मायावती ने कांशीराम के साथ राजनीति में उतरने का फैसला किया था। दलित परिवार से ताल्लुक रखने के बावजूद मायावती ने अपने साहस और हिम्मत से राजनीति में कदम रखा और ऊंचाईयों को छुआ।

रश्मि देसाई


हिन्दी सीरियल में अपनी ऊंची पहचान बना चुकीं रश्मि देसाई ने भी अपने जीवन से जुड़े कुछ अनसुने किस्से बयां किए थे। रश्मि देसाई ने बताया था कि बचपन में उन्हें लड़की होने पर उनके घर से ही काफी ताने सुनने को मिलते थे। रश्मि ने कहा कि उनके पैदा होने पर उनकी मां को लोग काफी सुनाया करते थे, क्योंकि वो बहुत गरीब फैमिली से ताल्लुक रखती हैं। रश्मि ने बताया कि बचपन में लोग उन्हें मनहूस कहते थे। रश्मि ने ये भी बताया कि उन्हें उस समय लगा था कि लड़की होना एक बहुत बड़ा पाप है। रश्मि ने कहा कि उस वक्त उन्होंने एक गलती की थी कि उन्होंने जहर खा लिया था, क्योंकि उस समय उन्हें अपनी वैल्यू नहीं पता थी। उन्हें बस इतना पता था कि वो लड़की हैं और वो बोझ हैं।

मेरी कॉम


मणिपुर में एक गरीब परिवार में जन्म लेने वाली मेरी कॉम के परिजन नहीं चाहते थे कि वो बॉक्सिंग करें। मेरी कॉम को बचपन में टीवी पर मोहम्मद अली को मुक्केबाजी करते देखकर बॉक्सर बनने की प्रेरणा मिली। मेरी कॉम के पिता को उनकी सुरक्षा को लेकर चिंता रहती थी। जिसकी वजह से शुरुआत में उनके बॉक्सिंग करने पर परिवार ने विरोध किया था। इसके बावजूद मेरी कॉम अपनी जिद पर अड़ी रहीं और उन्होंने बॉक्सिंग की ट्रेनिंग शुरू कर ग की. इसके बाद मेरी कॉम ने सफलता की ऐसी बुलंदियों को छुआ कि देश का दी। साल 2003 में मेरी कॉम को भारत सरकार ने अर्जुन अवॉर्ड से नवाजा गया। मेरी कॉम एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला मुक्केबाज बनीं।