india

CAA पर को लेकर आगबबूला हुए मुस्लिम संगठन, दे डाली इतनी बड़ी चेतावनी!

नागरिकता संशोधन बिल बनने के बाद से ही देशभर में इसका जमकर विरोध किया जा रहा है। देश के कई हिस्सों में इस बिल के विरोध में आगजनी, तोड़फोड़ व जबरदस्त हिंसा हुई। हालाँकि, इतनी हिंसा के बावजूद भी इसे लागू किया गया। जिसके बाद यह नागरिकता संशोधन कानून बन गया। बता दें कि भारत में नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (सीएए) जिसे 12 दिसंबर 2019 को कानून बनाया गया था, और एक राष्ट्रव्यापी नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) बनाने के प्रस्तावों के खिलाफ होने वाले विरोध प्रदर्शनों की एक श्रृंखला है। 4 दिसंबर 2019 को असम, दिल्ली, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश और त्रिपुरा में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए। वे पूरे भारत में फैल गए हैं, हालांकि प्रदर्शनकारियों की चिंताएं अलग-अलग हैं।

आपको बता दें कि मुस्लिम देशों के सबसे बड़े फॉर ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन (OIC) ने नागरिकता संशोधन अधिनियम पर एक बयान दिया है। OIC ने कहा कि यह CaA के बारे में चिंतित था। संगठन का यह भी कहना है कि यह भारत के मुसलमानों को प्रभावित करने वाले हाल के रुझानों की अनदेखी से निगरानी कर रहा है। इस्लामिक सहयोग संगठन में पाकिस्तान सहित 57 मुस्लिम बहुल देश शामिल हैं। आपको बता दें कि संगठन ने कश्मीर सहित सभी मुद्दों पर हमेशा पाकिस्तान का समर्थन किया है। संगठन ने चेतावनी दी कि अगर इन सिद्धांतों के विपरीत कोई कार्रवाई की जाती है, तो इससे तनाव बढ़ेगा और इसके क्षेत्र की सुरक्षा और शांति पर भी बुरा असर पड़ने की आशंका है।

गौरतलब है कि मलेशिया और तुर्की सहित कई मुस्लिम देशों ने भी नागरिकता संशोधन अधिनियम के बारे में विरोध किया है, लेकिन भारत ने स्पष्ट रूप से कहा है कि किसी भी देश को नागरिकता कानून जैसे आंतरिक मामलों पर टिप्पणियां नहीं करनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *