india

JP नड्डा का पूर्व पीएम मनमोहन सिंह पर पलटवार, कहा-“कांग्रेस ने बिना लड़े चीन को सरेंडर की थी जमीन”

चीन के साथ हो रहे विवाद को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री मोदी पर हमला बोलते हुए कहा था कि झूठ के आडंबर से सच छुपाया नहीं जा सकता। मनमोहन सिंह के इस बयान पर बीजेपी आगबबूला हो गई। जिसके जवाब में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मनमोहन सिंह पर पलटवार किया है। नड्डा ने मनमोहन सिंह के बयान को शब्दों का खेल बताते हुए कहा कि वो उसी पार्टी से जुड़े हैं जिसकी सरकार के दौरान बिना लड़े ही भारतीय जमीन सरेंडर कर दी गई। जेपी नड्डा ने पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को जवाब देते हुए कई ट्वीट किए।

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा ये शब्दों का खेल है और कोई भारतीय इस पर यकीन नहीं करेगा। नड्डा ने कहा कि ये वही कांग्रेस है जिसने हमेशा हमारे सुरक्षाबलों पर सवाल किए हैं और उन्हें डिमोरलाइज किया है। जेपी नड्डा ने अपने ट्वीट में लिखा कि ‘डॉ. मनमोहन सिंह उसी पार्टी से ताल्लुक रखते हैं, जिसने 43000 किलोमीटर भारतीय हिस्सा चीन के सामने सरेंडर किया है। यूपीए सरकार के दौरान निकृष्ट रणनीति देखी गई और बिना लड़े जमीन सरेंडर कर दी गई।’

इसके अलावा जेपी नड्डा ने लिखा कि भारत पूरी तरह पीएम नरेंद्र मोदी पर विश्वास करता है और समर्थन करता है। 130 करोड़ भारतीयों ने परीक्षा की घड़ी में पीएम मोदी के नेतृत्व को देखा है, उन्होंने हमेशा राष्ट्र को सबसे ऊपर रखा है। जेपी नड्डा ने सीधे तौर मनमोहन सिंह को उनका कार्यकाल याद दिलाया। नड्डा ने ट्वीट में लिखा कि आपने पीएम रहते हुए सैकड़ों स्क्वायर किलोमीटर भारतीय जमीन चीन के सामने सरेंडर कर दी। चीन ने 2010 से 2013 के बीच 600 बार से ज्यादा घुसपैठ की।

साथ ही जेपी नड्डा ने मनमोहन सिंह को यूपीए के दौरान पीएमओ की भी याद दिलाई। नड्डा ने लिखा कि डॉ मनमोहन सिंह निश्चित रूप से विभिन्न विषयों पर अपने विचार साझा कर सकते हैं, लेकिन पीएमओ की जिम्मेदारी उनकी नहीं है। उस ऑफिस से यूपीए वाला सिस्टम साफ हो गया है, जहां सुरक्षाबलों का अपमान भी किया जाता था। ये तमाम टिप्पणी करते हुए जेपी नड्डा ने अंत में कांग्रेस पार्टी और मनमोहन सिंह को एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक की याद दिलाते हुए कहा कि कृपया बार-बार हमारे सुरक्षाबलों का अपमान करना बंद करें। राष्ट्रीय एकता का सही मतलब समझें, अब भी देरी नहीं हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *