Home india SC ने सीनियर वकील प्रशांत भूषण को दिया दोषी करार, जानिए…क्या है...

SC ने सीनियर वकील प्रशांत भूषण को दिया दोषी करार, जानिए…क्या है मामला?

सुप्रीम कोर्ट ने सीनियर वकील प्रशांत भूषण को अवमानना मामले में दोषी करार दिया है। न्यायपालिका के प्रति कथित रूप से दो अपमानजनक ट्वीट करने को लेकर अधिवक्ता प्रशांत भूषण के खिलाफ स्वत: शुरू की गई अवमानना कार्यवाही में आज सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया। न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति बी आर गवई और न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी की पीठ ने इस मामले में अधिवक्ता प्रशांत भूषण को दोषी करार दिया। जिसकी सजा 20 अगस्त को सुनाई जाएगी।

बता दें कि कोर्ट ने इससे पहले 5 अगस्त को मामले में सुनवाई पूरी करते हुए कहा था कि इस पर फैसला बाद में सुनाया जाएगा। अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने उन दो ट्वीट का बचाव किया था, जिसमें अब कोर्ट ने मान लिया है कि इससे अदालत की अवमानना की गई है। उन्होंने कहा था कि वे ट्वीट न्यायाधीशों के खिलाफ उनके व्यक्तिगत स्तर पर आचरण को लेकर थे और वे न्याय प्रशासन में बाधा उत्पन्न नहीं करते। न्यायालय ने इस मामले में प्रशांत भूषण को 22 जुलाई को कारण बताओ नोटिस जारी किया था।

पीठ ने सुनवाई पूरी करते हुए 22 जुलाई के आदेश को वापस लेने के लिए अलग से दायर आवेदन खारिज कर दिया था। इसी आदेश के तहत न्यायपालिका की कथित रूप से अवमानना करने वाले दो ट्वीट पर अवमानना कार्यवाही शुरू करते हुए नोटिस जारी किया गया था। पीठ सुनवाई के दौरान भूषण का पक्ष रख रहे वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे के इस तर्क से सहमत नहीं थी कि अलग आवेदन में उस तरीके पर आपत्ति जताई है, जिसमें अवमानना प्रक्रिया अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल की राय लिए बिना शुरू की गई और उसे दूसरी पीठ के पास भेजा जाए।

भूषण ने उच्चतम न्यायालय के सेकेट्री जनरल द्वारा कथित तौर पर असंवैधानिक और गैर कानूनी तरीके से उनके खिलाफ दायर त्रुटिपूर्ण अवमानना याचिका स्वीकार करने पर भी व्यवस्था देने का अनुरोध किया था, जिसमें शुरुआत में याचिका प्रशासनिक पक्ष के पास रखी गई और बाद में न्यायिक पक्ष के पास। न्यायालय ने आदेश में कहा कि ‘मामले में पेश वरिष्ठ अधिवक्ता (दवे) को सुना। हमें इस रिट याचिका पर सुनवाई का आधार नहीं दिखता और इसलिए इसे खारिज किया जाता है। लंबित वादकालीन आवेदन खारिज माना जाए।’

दवे ने इसके बाद भूषण के खिलाफ दायर अवमानना मामले में बहस की और कहा, ‘दो ट्वीट संस्था के खिलाफ नहीं थे। वे न्यायाधीशों के खिलाफ उनकी व्यक्तिगत क्षमता के अंतर्गत निजी आचरण को लेकर थे। वे दुर्भावनापूर्ण नहीं हैं और न्याय के प्रशासन में बाधा नहीं डालते हैं।’ उन्होंने कहा था, ‘भूषण ने न्यायशास्त्र के विकास में बहुत बड़ा योगदान दिया है और कम से कम 50 निर्णयों का श्रेय उन्हें जाता है।’ दवे ने कहा कि अदालत ने टूजी, कोयला खदान आवंटन घोटाले और खनन मामले में उनके योगदान की सराहना की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

UNLOCK 4.0: आज से इन कामों पर मिलेगी रियायतें, इन पर जारी रहेगी पाबंदी

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच देश तेजी से अनलॉक मोड में जा रहा है. फिलहाल अनलॉक- 4 चल रहा है. जिसके तहत तमाम...

महाराष्ट्र: तीन मंजिला इमारत ढहने से बड़ा हादसा, 10 लोगों की मौत, कई लोगों के फंसे होने की आशंका

महाराष्ट्र के भिवंडी में सोमवार की सुबह एक दर्दनाक हादसा हो गया। सोमवार सुबह तीन मंजिला इमारत ढहने से 10 लोगों की...

आईपीएल 2020: रोहित शर्मा के चौके से हुई IPL के 13वें सीजन की शुरुआत

आईपीएल के 13वें सीजन का आगाज यूएई में हो चुका है। इस सीजन का पहला मैच चार बार की चैंपियन मुंबई इंडियंस और...

जासूस राजीव शर्मा ने किए कई चौंकाने वाले खुलासे, एक सूचना देने पर मिलते थे इतने डॉलर

चीनी खुफिया एजेंसी के लिए जासूसी करने के आरोप में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दिल्ली के पीतमपुरा इलाके से फ्रीलांस पत्रकार राजीव...

Recent Comments