india

कोरोना वायरस के बढ़ते मामले को लेकर योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, खूब हो रही है तारीफ

दुनिया भर में कोरोना ने बुरी तरह तबाही मचाई हुई है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए देश में लॉकडाउन लगाया हुआ है और सभी देशवासियों से इसका पालन करने की अपील की है। लेकिन इन सबके बावजूद भी देश में कोरोना के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इसका खासकर असर दिल्ली और मुंबई में देखने को मिल रहा है। हालांकि, देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में भी कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे थे। लेकिन योगी सरकार अपने सख्त नियमों के कारण इन आंकड़ों पर लगाम लगाने में कामयाब रही।  

बता दें कि लॉकडाउन के बाद भी कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में तबलीगी जमात सरकार के लिए एक नई चुनौती बनकर सामने आई तो हर कोई जिसके बाद योगी सरकार ने हॉटस्पॉट की एक नई रणनीति तैयार की, और ये मॉडल देश के सामने पेश किया। दरअसल, जब उत्तर प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ने लगी तो इस पर कंट्रोल करने के लिए योगी सरकार ने कोरोना संक्रमित व्यक्ति मिलने पर उससे संबंधित क्षेत्र को हॉटस्पॉट घोषित कर पूरे क्षेत्र को सील करने की रणनीति के तहत कार्रवाई करने का आदेश दे दिया। साथ ही उन्होंने हर हॉटस्पॉट में करीब 14 दिनों तक यह प्रक्रिया जारी रखने का निर्देश दिया, जब तक कि उस क्षेत्र में कोई और कोरोना पाजिटिव केस न मिले। योगी के इस फैसले के बाद और राज्य की सरकारों ने भी अपने राज्य में कोरोना संक्रमित क्षेत्रों को हॉटस्पॉट घोषित किया।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने भी सभी राज्य सरकारों को आदेश देते हुए जिन क्षेत्रों में संक्रमण तेजी से फैल रहा है, ऐसे हालात में तीन श्रेणियों में बांटे गए जिलों में सघन संक्रमण रोधी अभियान चलाने के लिए कहा है। साथ ही, केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से सबसे ज्यादा संक्रमण वाले 170 जिलों को हॉटस्पॉट जिले, सीमित संक्रमण वाले 207 जिलों को ‘संभावित हॉटस्पाट जिले’ और संक्रमण मुक्त शेष जिलों को ‘ग्रीन जोन’ में बांट दिया गया है। साथ ही, सभी राज्यों से ये बात भी कही गई है कि यदि उनकी नजर में कोई और ऐसे जिले हैं जो हॉटस्पॉट के मानकों को पूरा करते हों, तो उन जिलों को भी इस श्रेणी में शामिल किया जा सकता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *